टिकट एजेंट बनकर घर बैठे कमाएं 60-70 हजार रुपये महीना, जानें पूरी प्रक्रिया

ticket-agent-jobs

टिकट एजेंट बनकर घर बैठे कमाएं 60-70 हजार रुपये महीना, जानें पूरी प्रक्रिया

दी न्यूज़ एशिया समाचार सेवा।

नई दिल्ली। अगर आप ट्रेन से सफर करते हैं तो आप अच्छे से जानते होंगे कि ट्रेन के टिकट की बुकिंग स्टेशन पर बने टिकट काउंटर के अलावा ऑनलाइन भी होती है.

नई दिल्ली। अगर आप ट्रेन से सफर करते हैं तो आप अच्छे से जानते होंगे कि ट्रेन के टिकट की बुकिंग स्टेशन पर बने टिकट काउंटर के अलावा ऑनलाइन भी होती है. अधिकतर लोग ऑनलाइन टिकट बुकिंग का ही इस्तेमाल करते हैं. भारतीय रेलवे ने ऑनलाइन टिकट बुकिंग का जिम्मा आईआरसीटीसी (IRCTC) को दे रखा है. कुछ लोग सीमित संख्या में खुद भी लॉगिन आईडी बनाकर आईआरसीटीसी पर जाकर टिकट बुक कर सकते हैं, जबकि दूसरा तरीका एजेंट का होता है. यह दूसरा तरीका करियर के लिए भी बहुत फायदेमंद है. दरअसल, आप आईआरसीटीसी के टिकट एजेंट बनकर हर महीने 60-70 हजार रुपये कमा सकते हैं. आज हम आपको बता रहे हैं, आखिर कैसे बन सकते हैं टिकट एजेंट.

आपको बता दें कि IRCTC टिकट बुकिंग के लिए ट्रैवल एजेंट की नियुक्ति करता है. ये एजेंट आम लोगों की जरूरत के हिसाब से ट्रेन टिकट की बुकिंग करते हैं. टिकट बुक करने के बदले एजेंट को आईआरसीटीसी द्वारा तय की गई कमिशन राशि देता है. अगर आप भी आईआरसीटीसी से एजेंट के रूप में जुड़ेंगे तो आपको एक लॉगिन आईडी दी जाएगी. आपको आगे से इसी के जरिये टिकट बुक करना होगा. आईआरसीटीसी का ऑथराइज्ड एजेंट बनने के लिए आपको कुछ स्टेप्स फॉलो करने होते हैं. सबसे पहले तो अपना आधार कार्ड, पैन कार्ड निकालकर रख लें. इसके अलावा एक स्टैम्प पेपर पर एग्रीमेंट तैयार करवा लें. अब आपको आईआरसीटीसी के नाम से 20 हजार रुपये का एक डिमांड ड्राफ्ट बनवाना होगा. बाद में इसे बैंक में जमा कराना पड़ेगा. आपसे ली जाने वाली सिक्योरिटी मनी को आईआरसीटीसी तब लौटा देता है जब आप अपनी एजेंट लॉगिन आईडी को सस्पेंड कराते हैं. अगर आपने आईआरसीटीसी का एजेंट बनने का मन बना लिया है तो बता दें कि एजेंट आईडी को हर साल रिन्यु भी कराना होता है. रिन्युअल कराने के लिए 5000 रुपये की अतिरिक्त राशि देनी होती है. आखिरी स्टेप की बात करें तो आपको सर्विस एजेंट बनने के लिए क्लास पर्सनल डिजिटल सर्टिफिकेट भी लेना होगा.

आईआरसीटीसी अपने एजेंट को हर टिकट बुक करने पर कुछ कमीशन देता है. एक आम टिकट बुकिंग पर एजेंट को कम से कम लगभग 15 से 20 रुपये मिल पाते हैं. कुछ केस में ये अधिक भी हो सकते हैं. अगर सीजन या वैकेशन का समय है तो यह कमाई 70 से 80 हजार रुपये महीने तक पहुंच जाती है.