शोभित विश्वविद्यालय में "समान नागरिक संहिता:एक संवैधानिक परिप्रेक्ष्य" विषय पर विशेषज्ञ वार्ता का आयोजन 

शोभित विश्वविद्यालय में "समान नागरिक संहिता:एक संवैधानिक परिप्रेक्ष्य" विषय पर विशेषज्ञ वार्ता का आयोजन 

दी न्यूज़ एशिया समाचार सेवा।

शोभित विश्वविद्यालय में "समान नागरिक संहिता:एक संवैधानिक परिप्रेक्ष्य" विषय पर विशेषज्ञ वार्ता का आयोजन 

 मेरठ।  शोभित विश्वविद्यालय में "समान नागरिक संहिता:एक संवैधानिक परिप्रेक्ष्य" विषय पर विशेषज्ञ वार्ता का आयोजन किया गया। वार्ता के दौरान विषय विशेषज्ञ प्रोफेसर डॉ विनी कपूर मेहरा, संस्थापक कुलपति, राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, सोनीपत ने विभिन्न विधिक एवं संवैधानिक प्रावधानों का उल्लेख करते हुए समान नागरिक संहिता की आवश्यकता व चुनौतियों से अवगत कराते हुए विचार व्यक्त किया। 

कहा  कि समान नागरिक संहिता संपूर्ण भारत के सभी नागरिकों के लिए एक समान कानून के साथ सभी धार्मिक समुदायों के लिए विवाह, तलाक, भरण पोषण, उत्तराधिकार व गोद लेने आदि सभी वैयक्तिक मामलों से संबंधित कानून में एकरूपता प्रदान करना है ताकि भारत के संविधान के अनुच्छेद 14 द्वारा संकल्पित समानता की अवधारणा के अनुरूप हम भारत के लोगों द्वारा ही अपने लिए आत्मार्पित संविधान के अनुच्छेद 44 में आज्ञापक प्रावधान एवं संविधान की आत्मा को जीवन प्रदान किया जा सके। परस्पर संवादात्मक विशेषज्ञ वार्ता के आरंभ में विधि संकाय के निदेशक प्रमोद कुमार गोयल ने विषय विशेषज्ञ का संक्षिप्त जीवन परिचय प्रस्तुत कर सभागार में उपस्थित सभी महानुभावों को उनकी शैक्षिक उपलब्धियों उनके सामाजिक योगदान से अवगत कराया। 

       कुलपति प्रो डॉ जयानंद द्वारा विषय विशेषज्ञ का स्वागत करते हुए अपेक्षा की कि यह परस्पर संवादात्मक अकादमीक वार्ता ज्ञानार्जन में सहायक होगी। कार्यक्रम समन्वयक सुश्री अर्पणा त्यागी, सहायक प्राध्यापिका तथा छात्र समन्वयक सुश्री जोरिशा व सुश्री दीक्षा गौड़ द्वारा विश्वविद्यालय प्रशासन से समन्वय कर कार्यक्रम का सफल व प्रभावी संचालन किया गया। इस विचारोतेजक विमर्श वार्ता में विश्वविद्यालय के प्राध्यापकगण व छात्रों ने सक्रिय प्रतिभाग किया।