कहकशा, रोजी,महजबीन "रामायण के पात्रों को चित्रों में उतारा"

कहकशा, रोजी,महजबीन "रामायण के पात्रों को चित्रों में उतारा"

दी न्यूज़ एशिया समाचार सेवा।

 

कहकशा, रोजी,महजबीन "रामायण के पात्रों को चित्रों में उतारा"

"राम जी के सुंदर रूपों को चित्रों में संजो कर वाह वाही बंटोरी "

"केवल धर्म नहीं मानवीय आदर्शो का प्रतीक है राम"-प्रोफेसर संजीव कुमार शर्मा

मेरठ। धर्म और संस्कृति के प्रतीक मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम जी के आदर्शो व उनके जीवन मूल्यों पर आधारित "श्री राम उत्सव" का आयोजन बड़े ही उल्लास और धूमधाम के साथ ललित कला विभाग के सुघड़ कलाकारों द्वारा मनाया जा रहा है जिसमें उनके द्वारा की जा रही मनमोहन, आकर्षक "राममय" गतिविधियां राम भक्तों के लिए आकर्षण का केंद्र बनी हुई है जो सहज ही सभी को अपनी ओर आकर्षित कर रही हैं।

 विभाग की समन्वयक प्रोफेसर अलका तिवारी एवं शिक्षिकाओं तथा विद्यार्थी कलाकारों को बधाई देते हुए भूरि भूरि प्रशंसा "मुख्य अतिथि" प्रोफेसर संगीता शुक्ला,  कुलपति, चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय ने की। बतौर अति विशिष्ट अतिथि कुलसचिव धीरेंद्र कुमार वर्मा ने कहा ललित कला विभाग द्वारा 27 दिसंबर से निरंतर "जय श्री राम" एवं  "रामायण" के अन्य पात्रों जैसे राम, लक्ष्मण, माता सीता, सुग्रीव, जटायु, हनुमान जी, अहिल्या, निषाद राज, तथा बेर खिलाती हुई शबरी का जीवंत चित्रण पत्थर, कैनवस, कपड़े, कागज, पटको, पर किया जा रही है। शीतकालीन अवकाश में भी इन कलाकारों ने शिक्षकों के नेतृत्व में भयंकर शीत लहरी में सीमेंट की शिलाओं में रामायण के पात्रों को उकेरा। मैंने स्वयं इसका अवलोकन किया है। अति विशिष्ट अतिथि प्रोफेसर संजीव कुमार शर्मा, संकाय अध्यक्ष कला, निदेशक एकेडमिक ने  इसके लिए कलाकारों को बधाई का पात्र कहा उन्होंने कहा कि कलाकार रामायण की चौपाइयों पर भी चित्रकारी करें। और विभाग के कलाकारों के लिए यह असंभव नहीं है विश्वविद्यालय में राम उत्सव के इतने सुंदर आयोजन के लिए यह बधाई के पात्र हैं

अति विशिष्ट अतिथि प्रोफेसर मृदुल कुमार गुप्ता, कोऑर्डिनेटर आइक्यूएसी ने कहा, कि ललित कला विभाग की गतिविधियां चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय की गुणवत्ता में सदैव चार चांद लगाती आई है। विश्वविद्यालय को राम मय बनाकर यहां पर विद्यार्थियों को श्रीराम जी के मर्यादित जीवन से प्रेरणा लेने के लिए भी प्रेरित कर रहे हैं जो अनुकरणीय है। प्रोफेसर भूपेंद्र राणा छात्र कल्याण अधिष्ठाता अति विशिष्ट अतिथि ने  सभी युवा कलाकार को भविष्य की शुभकामनाएं प्रेषित की तथा इस प्रकार के धर्म व संस्कृति पर आधारित कार्य को करने के लिए प्रेरित किया। प्रोफेसर अलका तिवारी समन्वय ललित कला विभाग में सभी का स्वागत एवं आभार व्यक्त किया उन्होंने कहा कि हम कला के द्वारा सदैव से समाज में मूल्य की स्थापना करते हुए समाज को चित्रकारी के माध्यम से जागरुक कर रहे हैं खास बात यह है हमारे अन्य धर्म से संबंध रखने वाली बेटियां भी राम जी के विभिन्न रूपों को बहुत सुंदरता के साथ चित्रित कर रही है जिसमें रोजी कहकशा महजबीन के राम जी के चित्र बहुत पसंद किया जा रहे हैं।अति विशिष्ट अतिथि श्री रमेश चंद वित्त अधिकारी ने कहा की विश्वविद्यालय का वित्त विभाग सदैव से इस प्रकार की गतिविधियों में सहयोग करता आया है। विशिष्ट अतिथि के रूप में प्रोफेसर हरे कृष्णा, प्रोफेसर जे ए सिद्दीकी, पुस्तकालय अध्यक्ष, प्रोफेसर संजय कुमार, अध्यक्ष मनोविज्ञान विभाग, प्रोफेसर अल्पना, डॉ प्रदीप चौधरी, सांख्यिकी विभाग, डॉ प्रशांत प्रेस प्रवक्ता उपस्थित रहे इस अवसर पर चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय के अभियंता श्री मनीष मिश्रा, एवं अभियंता विभाग तथा प्रेस प्रवक्ता डा.मितेंद्र, श्री प्रवीण पवार, का विशेष सहयोग। व्रत स्तर पर आयोजित इस कार्यक्रम में डॉक्टर पूर्णिमा वशिष्ठ डॉ शालिनी धामा, सुश्रीआरुषि, सलोनी त्यागी, आकाश का सहयोग सराहनीय रहा। छात्र स्तर परयुगांशी, कशिश, मानू,पीयूष, राहुल, दिवाकर, जय श्री ,निशा, तेजस, गौरंगी, रिद्धिमा, सिद्धार्थ, अंश, शीतल, मानसी ,सलोनी, श्रेया, श्रद्धा, कहकशा ,रोजी, महजबीन प्रवीण आदि छात्र-छात्राओं का सहयोग रहा।