डेंगू का बुखार होने पर घर की कुछ चीजें औषधि की तरह करती हैं काम, जान लीजिए इस्तेमाल का सही तरीका

dengue-fever-health

डेंगू का बुखार होने पर घर की कुछ चीजें औषधि की तरह करती हैं काम, जान लीजिए इस्तेमाल का सही तरीका

दी न्यूज़ एशिया समाचार सेवा।

हालांकि, डेंगू का डॉक्टर की सलाह से इलाज चलता है लेकिन कुछ घरेलू नुस्खे भी हैं जिन्हें बुखार और अन्य लक्षणों को कम करने के लिए डेंगू होने पर आजमाया जा सकता है. ये नुस्खे बेहद कारगर भी साबित होते हैं.

नई दिल्ली. मच्छर से होने वाला डेंगू इस मौसम में सबसे ज्यादा होने वाली बीमारियों में से एक है. डेंगू के बढ़ने का एक कारण बरसात के गंदे पानी का जगह-जगह जम जाना है जिससे उसमें मच्छर पनपने लगते हैं. इन्हीं मच्छरों के काटने पर डेंगू होता है. डेंगू होने पर तेज बुखार, सिर में दर्द, आंखों में दर्द, कमजोरी, जोड़ों में दर्द, जी मिचलाना और अल्टी जैसे लक्षण दिखने लगते हैं. हालांकि, डेंगू का डॉक्टर की सलाह से इलाज चलता है लेकिन कुछ घरेलू नुस्खे भी हैं जिन्हें बुखार और अन्य लक्षणों को कम करने के लिए डेंगू होने पर आजमाया जा सकता है. ये नुस्खे बेहद कारगर भी साबित होते हैं.

आयुर्वेद में गिलोय को औषधि माना जाता है. गिलोय का जूस खासतैर से मेटाबॉलिज्म और इम्यूनिटी को बढ़ाता है. इम्यूनिटी बढ़ने पर शरीर को डेंगू से लड़ने की शक्ति मिलती है. गिलोय रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के साथ ही बुखार को भी कम करता है. इसे हल्के गर्म पानी में मिलाकर पिया जा सकता है. दिन में 2 बार गिलोय का जूस पिया जा सकता है लेकिन इससे ज्यादा इसके सेवन से परहेज करना चाहिए.

सेहद को अमरूद के जूस से कई फायदे मिलते हैं. इसमें विटामिन सी की अच्छी मात्रा पाई जाती है जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है. डेंगू की डाइट में अमरूद के जूस को शामिल किया जा सकता है. रोजाना एक कप अमरूद का जूस दिन में 2 बार पिया जा सकता है. जूस के अलावा ताजा अमरूद भी खाया जा सकता है.

डैंगू के मरीजों को अक्सर पपीते के पत्ते का जूस या काढ़ा पीने की भी सलाह दी जाती है. इसे प्लेटलेट्स बढ़ाने के लिए पिया जाता है. पपीते के पत्तों को मसलकर जूस निकाला जाता है और इस जूस को दिन में एक से दो बार पिया जा सकता है.

शरीर को डेंगू से लड़ने के लिए स्ट्रोंग प्रतिरोधक क्षमता की जरूरत होती है. कई चीजें ऐसी हैं जिन्हें डेंगू में खाया-पिया जा सकता है. खट्टे फल, लहसुन, बादाम और हल्दी आदि खानपान में शामिल किए जा सकते हैं.