एक  दिवसीय करियर काउन्सलिंग सेमीनार का आयोजन 

एक  दिवसीय करियर काउन्सलिंग सेमीनार का आयोजन 

दी न्यूज़ एशिया समाचार

सेवा।

एक  दिवसीय करियर काउन्सलिंग सेमीनार का आयोजन 

 मेरठ। रघुनाथ गर्ल्स डिग्री कॉलेज के तत्वाधान में  माननीया प्राचार्या प्रोफेसर निवेदिता कुमारी  के निर्देशन में करियर काउंसलिंग एवम प्लेसमेंट सैल तथा वाणिज्य विभाग द्वारा आईसीएआई की करियर काउंसलिंग टीम के साथ संयुक्त रूप से एक  दिवसीय करियर काउन्सलिंग सेमीनार का आयोजन किया गया। सेमिनार का विषय था चार्टर्ड अकाउंटेंसी कोर्स की तैयारी कैसे करें। 

 जिस पर प्रकाश डालने के लिए आईसीएआई के फेलो मेंबर एवं करियर काउंसलर  सी ए पवन मित्तल  तथा सीए राजीव गुप्ता जी को  वक्ता के रूप में आमंत्रित किया गया।  पवन मित्तल  द्वारा छात्राओं को चार्टर्ड अकाउंटेंसी कोर्स के विषय में पूर्ण जानकारी प्रदान की गई। 

उन्होंने छात्राओं को चार्टर्ड अकाउंटेंसी कोर्स का सिलेबस ,अवधि, पेपर पेटर्न तथा क्वालीफाइंग मार्क्स से संबंधित सभी जानकारी प्रदान की। सर ने छात्राओं को आईसीएआई की और से मिलने वाली स्कॉलरशिप के बारे में भी बताया। राजीव गुप्ता ने छात्राओं को सीए कोर्स करने के लिए मोटिवेट किया तथा सीए कोर्स से संबंधित सभी भ्रांतियों को दूर किया ।उन्होंने बताया कि किस प्रकार छात्राएं सीए जैसे कठिन कोर्स को भी अपनी मेहनत,लगन और समझदारी से आसान  बना सकती हैं और अपने लक्ष्य तक पहुंच सकती हैं। उन्होंने छात्राओं को बताया कि वर्तमान समय में जीएसटी के आ जाने से किस प्रकार चार्टर्ड अकाउंटेंट्स की मांग बाजार में बढ़ गई है जिसका वे फायदा उठा सकती हैं। चार्टर्ड अकाउंटेंट बनकर वे न केवल अपना और अपने परिवार का अच्छा कर सकती हैं वरन देश के लिए भी उपयोगी सिद्ध हो सकती हैं। इसके अलावा चार्टर्ड अकाउंटेंसी कोर्स  के अनेक फायदे हैं जैसे एक अच्छा जीवन जीने का तरीका, उच्च वेतन, गहरा ज्ञान और एक बेहतर पोर्ट फोलियो। कार्यक्रम का  संचालन कार्यक्रम संजोयिका, श्रीमती नेहा टंडन द्वारा किया गया। कार्यक्रम में महाविद्यालय की प्राचार्या प्रोफेसर निवेदिता कुमारी ने सभी छात्राओं को प्रोत्साहित किया।  उन्होंने सभी छात्राओं को जागरुक करते हुए कहा की वर्तमान में सभी छात्राओं को अपना करियर निर्माण करना बहुत जरूरी है। करियर निर्माण करने के लिए कठिन मेहनत करने के साथ-साथ यह जरूरी है कि सही तरीके से किसी भी प्रतियोगिता की तैयारी की जाए ।समय प्रबंधन करना बहुत जरूरी है।   अपनी पहचान बनाने के लिए पूर्ण समर्पण जरूरी है। सिर्फ पढ़ाई से काम नहीं चलता, शिक्षा के व्यवहारिक रूप में कार्य करना जरूरी है इसके लिए शिक्षिकाओं के साथ मिलकर प्रोजेक्ट्स पर कार्य करे। इससे व्यवहारिक ज्ञान भी बढ़ता है और आर्थिक रूप से भी धन अर्जन होता है। प्रोफेसर अंजुला राजवंशी, इंचार्ज करियर काउंसलिंग एंड प्लेसमेंट सेल के द्वारा छात्राओं का उत्साह वर्धन किया गया तथा उन्हें आगे बढ़ने की प्रेरणा दी गई। डॉक्टर पारुल रस्तोगी, इंचार्ज वाणिज्य विभाग द्वारा कार्यक्रम के अंत में सबको धन्यवाद ज्ञापित किया गया। कार्यक्रम को सफल बनाने में वाणिज्य विभाग की सभी शिक्षिकाओं डॉ वत्सला ओबेरॉय , डा रीमा मित्तल, श्रीमती बिन्नी ,कुमारी इशिता तथा करियर काउंसलिंग एंड प्लेसमेंट सेल की सदस्यों डॉ सीमा अग्रवाल, डॉ सुनीता सिंह , डा शैलजा तथा कुमारी हिना यादव का पूर्ण सहयोग रहा।