अविवाहित महिलाएं भी करा सकेंगी 24 हफ्ते तक अबार्शन

अविवाहित महिलाएं भी करा सकेंगी 24 हफ्ते तक अबार्शन

सुप्रीमकोर्ट का गर्भपात को लेकर अहम फैसला

दी न्यूज़ एशिया समाचार सेवा।

अविवाहित महिलाएं भी करा सकेंगी 24 हफ्ते तक अबार्शन
नई दिल्ली (एजेंसी)। सुप्रीम कोर्ट ने आज एक बड़ा फैसला किया है। कोर्ट ने कहा कि मेडिकल टर्मिनेशन आफ प्रेग्नेंसी एक्ट के तहत अविवाहित महिला को भी गर्भपात का अधिकार है। शीर्ष न्यायालय ने कहा कि विवाहित और अविवाहित महिलाओं के बीच भेद कृत्रिम और संवैधानिक रूप से टिकाऊ नहीं है। कोर्ट के इस फैसले के बाद अब एमटीपी के तहत अविवाहित महिला को भी 24 हफ्ते तक गर्भपात कराने का अधिकार मिल गया है।
कोर्ट ने कहा कि किसी भी महिला के वैवाहिक होने या न होने को लेकर हम गर्भपात का अधिकार उनसे नहीं छीन सकते हैं। बता दें कि कोर्ट के आदेश से पहले सामान्य मामलों में 20 हफ्ते से अधिक और 24 हफ्ते से कम के गर्भपात का अधिकार केवल विवाहित महिलाओं को ही था।
न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति जेबी पारदीवाला और न्यायमूर्ति एएस बोपन्ना की पीठ ने एमटीपी अधिनियम की व्याख्या पर फैसला सुनाया है। कोर्ट ने कहा कि अविवाहित या एकल महिलाओं को विवाहिता की तरह 24 सप्ताह तक गर्भपात का लाभ दिया जा सकता है।
दुष्कर्म में विवाहिक दुष्कर्म भी शामिल
सुप्रीम कोर्ट ने आगे कहा कि पति द्वारा किया जाने वाला दुष्कर्म 'मैरिटल दुष्कर्म' की दशा में भी पत्नी 24 सप्ताह की तय सीमा में अबार्शन करा सकती है। एमटीपी के तहत अब इन महिलाओं को भी अधिकार दिया जाना चाहिए।