2.5 किग्रा से कम वजन के नवजात को रखा जाएगा एनबीएसयू में

 2.5 किग्रा से कम वजन के नवजात को रखा जाएगा एनबीएसयू में

दी न्यूज़ एशिया समाचार सेवा ।

 2.5 किग्रा से कम वजन के नवजात को रखा जाएगा एनबीएसयू में
जनपद की 12 सीएचसी पर खुलेंगी न्यू बोर्न स्टेबिलाइजेशन यूनिट
सीएमओ कार्यालय में एमओआईसी व अन्य स्टाफ को दी गयी ट्रेनिंग
 मेरठ, 17 अगस्त 2022 । अब जनपद के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सीएचसी पर पैदा हुए कमजोर नवजात शिशुओं को जिला अस्पताल नहीं ले जाने की जरूरत नहं पड़ेगी। उन्हें वहीं ;सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बनी न्यूबोर्न स्टेबलाइजेशन यूनिट एनबीएसयू में रखकर उपचारित किया जाएगा। जनपद की सभी 12 सीएचसी पर एनबीएसयू खुलेंगी। मंगलवार को इसी सिलसिले में जिले की सभी सीएचसी के प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों एमओआईसी, नर्स, नर्स मेंटर, कंप्यूटर ऑपरेटर व अन्य स्टाफ  को ट्रेनिंग दी गयी। ट्रेनिंग में विशेषज्ञों द्वारा बताया गया है कि किस प्रकार से इस यूनिट में नवजात की देखभाल व उपचार करना है।
  ट्रेनिंग सत्र का शुभारंभ मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. अखिलेश मोहन ने किया। इस मौके पर अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. विश्वास चौधरी, डा. जावेद, यूपी टीएसयू की ओर से डा. अंकित, यूनिसेफ की ओर से अल्ताफ  मौजूद रहे। ट्रेनिंग में डा. अंकित ने बताया .यूनिट के नये पोर्टल पर किस प्रकार कार्य करना है। कौन से नवजात को इस यूनिट में भर्ती कराना है। कैसे उनका उपचार कर उनको स्वस्थ करना है। कैसे नवजात शिशु मृत्यु दर को कम करना है, आदि के बारे में विस्तृत रूप से जानकारी दी।
 यूनिसेफ की ओर से कोओडिनेटर अल्ताफ  अली ने बताया बच्चों की मृत्यु दर को कम करने के लिये सभी जिलों की सीएचसी पर अब न्यूबोर्न स्टेबलाइजरl यूनिट की स्थापना की जा रही है। इस यूनिट मे ऐसे नवजात को रखा जाएगा, जिनका वजन पैदा होने पर दो किलोग्राम से 2.5 किलोग्राम तक है। दो किलोग्राम से कम वजन के बच्चों को मदर न्यू बोर्न केयर यूनिट,एमएनसीयू में रखा जाता है। उन्होंने कहा मकसद एक है हर हाल में नवजात शिशु मृत्यु दर को कम करना। पहले कम कमजोर नवजात शिशु को जिला अस्पताल में भर्ती कराया जाता था। उन्होंने बताया जनपद में सभी 12 सीएचसी पर एनबीएसयू की स्थापना की जा रही है।