टाटा एआईए ने विमा उद्योग में पहली बार व्हाट्सएप पर अलग अलग भुगतान समाधान लॉन्च किए

टाटा एआईए ने विमा उद्योग में पहली बार व्हाट्सएप पर अलग अलग भुगतान समाधान लॉन्च किए

दी न्यूज़ एशिया समाचार सेवा।

टाटा एआईए ने विमा उद्योग में पहली बार व्हाट्सएप पर अलग अलग भुगतान समाधान लॉन्च किए

गाजियाबाद। भारत की अग्रणी जीवन बीमा कंपनियों में से एक टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड ने अपने व्हाट्सएप प्लेटफॉर्म पर प्रीमियम भुगतान सेवा शुरू की है। जीवन बीमा क्षेत्र में इस तरह की सेवा शुरू करने वाली टाटा एआईए पहली बीमा कंपनी है। पहले व्हाट्सअप प्लेटफार्म पर सेवाएं यूपीआई-आधारित लेनदेन तक सीमित थी, लेकिन अब टाटा एआईए उपभोक्ता व्हाट्सएप पर भुगतान के कई अलग-अलग तरीकों का उपयोग कर सकते हैं।

टाटा एआईए के कार्यकारी उपाध्यक्ष और संचालन प्रमुख संजय अरोरा ने कहा, टाटा एआईए के पॉलिसीधारक व्हाट्सएप का उपयोग करके,  क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड और नेट बैंकिंग विकल्पों के ज़रिए नवीनीकरण भुगतान आसानी से कर सकते हैं। पॉलिसीधारक अब 2 लाख रुपये की पूर्व सीमा के बजाय 1 करोड़ रुपये तक प्रीमियम का भुगतान कर सकते हैं। श्री अरोरा ने कहा, उपभोक्ताओं के लिए सहज और सुविधाजनक नए भुगतान विकल्पों को व्हाट्सएप पर प्रस्तुत करके बीमा उद्योग में नए रुझान स्थापित करते हुए हमें बहुत ख़ुशी हो रही है। अत्याधुनिक प्रौद्योगिकियों के ज़रिए उपभोक्ताओं को सुविधा और आसानी प्रदान करने की हमारी निरंतर प्रतिबद्धता के तहत हम यह अभिनव पहल लेकर आए हैं। इस तरह के बाजार-अग्रणी समाधान पेश करना हम आगे भी जारी रखेंगे, जिससे हमें बेहतर ग्राहक अनुभव प्रदान करने में मदद मिलेगी। टाटा एआईए अपने उपभोक्ताओं को व्हाट्सएप पर 27 सेवाएं देती है। इनमें पॉलिसी दस्तावेज़ की सॉफ्ट कॉपी, प्रीमियम प्रमाणपत्र, दावा प्रक्रिया की शुरूआत और अपडेट, पॉलिसी नवीनीकरण प्रीमियम भुगतान, संपर्क जानकारी अपडेट, सेवा अनुरोध पर कार्यवाही का ट्रैकिंग, एनईएफटी अपडेट, यूनिट स्टेटमेंट और फंड वैल्यू अपडेट शामिल हैं। कंपनी ने ताशा नामक एक इंटरैक्टिव सर्विस बॉट भी तैनात किया है, जो सप्ताह के 7 दिन, 24 घंटे उपभोक्ताओं के प्रश्नों का उत्तर देता है।

जून 2023 में टाटा एआईए ने बीमा उद्योग में पहली बार डिजिटल भुगतान सुविधा प्रस्तुत करके, व्हाट्सएप और यूपीआई-सक्षम भुगतान विकल्पों के ज़रिए तत्काल प्रीमियम भुगतान सुविधा प्रदान की। बहुत ही सुविधाजनक और निर्बाध भुगतान प्रक्रिया का उपयोग करके टाटा एआईए के उपभोक्ता अब अपने परिचित व्हाट्सएप इंटरफ़ेस से नवीनीकरण प्रीमियम का भुगतान कर सकते हैं और अधिक लचीली सेवाओं का आनंद ले सकते हैं। भुगतान सिर्फ एक मिनट के भीतर तुरंत किया जा सकता है, और इसकी पावती उपभोक्ताओं को तुरंत मिलती है। इसके अलावा, क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड और नेट बैंकिंग विकल्प होने की वजह से यूपीआई का उपयोग करने की आवश्यकता नहीं है। दुनिया भर के 180 से अधिक देशों में 2 अरब से अधिक लोग, किसी भी समय और कहीं भी, अपने मित्रों और परिवार के साथ संपर्क में रहने के लिए व्हाट्सएप का उपयोग करते हैं’।

इसके अलावा, अपने मौजूदा उपभोक्ताओं की सुविधा को बढ़ाने के लिए, टाटा एआईए ने रिन्युअल प्रीमियम कलेक्शन में सुधार के लिए एनालिटिक्स-संचालित, डेसील पर आधारित दृष्टिकोण अपनाया है। कंपनी ने कई डिजिटल मोड के ज़रिए रिन्युअल प्रीमियम कलेक्शन को सक्षम किया है और अपनी भाषा क्षमता को भी बढ़ाया है। व्हाट्सएप और एसएमएस सेवाओं के माध्यम से कम्युनिकेशन ड्राइव को स्वचालित अभियान प्रबंधन प्रणाली बना दिया गया है। अब कंपनी उपभोक्ताओं के व्यवहार और आचरण का अध्ययन करने और कम्युनिकेशन चैनलों को उपयुक्त रूप से बदल सकती है।

वित्त वर्ष 2023 में, टाटा एआईए पांच पर्सिस्टेंसी समूहों में से चार में पहले स्थान पर रही, जिसमें 13वें महीने की पर्सिस्टेंसी भी शामिल है। कंपनी की 13वें महीने पर्सिस्टेंसी वित्त वर्ष 2022 में 87.76प्रतिशत से बढ़कर 88.1प्रतिशत हो गयी। साथ ही, व्यक्तिगत मृत्यु दावा निपटान रेशो वित्त वर्ष 2022 में 98.53प्रतिशत से बढ़कर वित्त वर्ष 2023 में 99.01प्रतिशत हो गया। वित्त वर्ष 2024 की पहली तिमाही में, कंपनी ने सभी 5 समूहों में उद्योग का सर्वश्रेष्ठ पर्सिस्टेंसी प्रदर्शन किया।

हर साल जितने पॉलिसीधारक अपनी पॉलिसी का नवीनीकरण करते हैं उस प्रतिशत को पर्सिस्टेंसी रेशो में नापा जाता है। इसलिए, विशेषज्ञ हमेशा उपभोक्ताओं को जीवन बीमा कंपनी चुनते समय इस महत्वपूर्ण मीट्रिक की जांच करने की सलाह देते हैं। 13वें महीने का पर्सिस्टेंसी रेशो या उपभोक्ताओं द्वारा अपनी पॉलिसी खरीदने के एक साल बाद उसे नवीनीकृत करने का प्रतिशत प्रमुख पर्सिस्टेंसी मेट्रिक्स में से एक है। यह सबसे महत्वपूर्ण है क्योंकि असंतुष्ट उपभोक्ताओं द्वारा अपनी पॉलिसियों को नवीनीकृत करने की संभावना नहीं है। इसके अलावा, 25वें, 37वें, 49वें और 61वें महीने सहित अन्य अवधियों के पर्सिस्टेंसी रेशो भी देखे जाने चाहिए, जिससे बीमा कंपनी की लंबी अवधि में सेवा और समर्थन की गुणवत्ता का आकलन किया जा सकता है।