उद्घव ठाकरे ने पत्नी बच्चों के साथ छोड़ा मुख्यमंत्री आवास । लोटे मातोश्री

अभी और भी बागी विधायक हो सकते हैं एकनाथ शिन्धे के गुट में शामिल।

उद्घव ठाकरे ने पत्नी बच्चों के साथ छोड़ा मुख्यमंत्री आवास । लोटे मातोश्री
Credit goes to aajtak news

दी न्युज़ एशिया समाचार सेवा ।

शिव सेना नेता संजय राउत बुधवार तक दावा कर रहे थे कि वे पार्टी के बाग़ी नेताओं के संपर्क में हैं और उनका कोई भी विधायक टूटने वाला नही हैं।

लेकिन महाराष्ट्र में मचे राजनीतिक घमासान के तीसरे दिन भी कोई बाग़ी विधायक वापस नहीं लौटा है।शिव सेना नेता एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में क़रीब 40 विधायक गुवाहाटी मैं एक होटल में ठहरे हैं।

ताज़ा हालात में आंकड़े उद्धव ठाकरे के पक्ष में नहीं हैं. उद्धव ठाकरे सरकार को बचाने के लिए संघर्ष करते नज़र आ रहे हैं।

बुधवार देर रात उद्धव ठाकरे ने अपने परिवार के साथ सीएम आवास भी खाली दिया और अपनी निवास मातोश्री लौट आए हैं।

देर रात उद्धव ठाकरे अपनी पत्नी रश्मि, बेटे आदित्य और तेजस के साथ आधिकारिक आवास से निकल मातोश्री लौट गए। मातोश्री पहुँचने तक, पूरे रास्ते शिव सैनिकों ने नारेबाज़ी की।

उन्होंने मीडिया के द्वारा कहा कि अगर उनके विधायक चाहते हैं और कहते हैं तो वह अपने पद से इस्तीफ़ा देने के लिए तैयार हैं। राजनीतिक घमासान के बाद से यह उनका पहला  संबोधन था।बीजेपी के लिए निश्चित तौर पर महाराष्ट्र में सत्ता वापसी के लिए यह एक मौक़ा है लेकिन बीजेपी अभी एकनाथ शिंदे के अगले क़दम का इंतज़ार कर रही है।

एक बीजेपी नेता ने कहा, "गुरुवार तक और शिवसेना विधायकों के शिंदे गुट में शामिल होने की उम्मीद है ऐसे में उद्धव के पास गिने-चुने विधायक ही बचे रह जाएंगे । उन्होंने अपनी ताक़त खो दी है। इस झटके से बीजेपी के लिए राह आसान ही होगी।"एकनाथ शिंदे ने किया ट्वीट ।

एकनाथ शिंदे ने ट्वीट कर कहा, "पिछले ढाई सालों में महाविकास अघाड़ी सरकार ने केवल घटक दलों को फ़ायदा पहुँचाया है और शिव सैनिकों को भारी नुक़सान पुहंचा हैं।

दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा, "पार्टी और शिव सैनिकों के अस्तित्व के लिए अस्वाभाविक मोर्चे से बाहर निकलना ज़रूरी है महाराष्ट्र के हित में अब निर्णय लेने की ज़रूरत है।

सूत्रों कि मने तो शिंदे के खेमे में अभी और भी बाग़ी नेता शामिल हो सकते हैं। इससे पहले देर रात चार और विधायक गुवाहाटी के रेडिसन ब्लू होटल पहुँचे।