सपा होर्डिंग प्रकरण में जिला महासचिव पर  गिरी गाज

सपा होर्डिंग प्रकरण में जिला महासचिव पर  गिरी गाज

दी न्यूज़ एशिया समाचार सेवा।

सपा होर्डिंग प्रकरण में जिला महासचिव पर  गिरी गाज

पार्टी प्रदेश अध्यक्ष ने मनोज चपराणा को पद से हटाया

 बोले-अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं की जाएगी

मेरठ। सपाइयों में होर्डिंग पर फोटो न लगे होने के मामले में हुए विवाद में पार्टी हाईकमान ने एक्शन लिया है। मामले में पार्टी के जिला महासचिव मनोज चपराणा को पद से हटा दिया गया है। इस संबंध में प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने पत्र जारी किया है।

जेल रोड स्थित सपा कार्यालय पर लगाए गए एक होर्डिंग पर जिलाध्यक्ष विपिन चौधरी का फोटो न होने पर 27 जनवरी को को सपाइयों में कहासुनी हुई थी। इनका आठ मिनट 42 सेकंड का एक वीडियो भी वायरल हो हुआ था। जिसमें जिलाध्यक्ष की मौजूदगी में सपाई आपस में एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाते नजर आ रहे थे। इस मामले से जिलाध्यक्ष ने पार्टी हाईकमान को अवगत कराया था।

जिलाध्यक्ष विपिन चौधरी ने उनसे कहा कि अगर पार्टी कार्यालय पर कोई होर्डिंग लगाएंगे तो उसमें जिलाध्यक्ष का फोटो होना चाहिए, यह पार्टी प्रोटोकॉल है। अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। प्रदेश अध्यक्ष ने कार्रवाई की है। वहीं, इस संबंध में मनोज चपराणा का कहना है कि उन्होंने कोई अभद्रता नहीं की थी, बल्कि उनके साथ ही अभद्र व्यवहार किया गया था।

बतदें सपा पार्टी कार्यालय पर सपा की पीडीए यात्रा को लेकर बैठक हो रही थी। बैठक में कार्यालय प्रभारीा निरंजन सिंह, बाबा साहब वाहिनी के जिलाध्यक्ष अजय सागर, एससी प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जय कुमार नारंग भी मौजूद थे।तभी वहां जिला उपाध्यक्ष रियाज अहमद और जिला महासचिव मनोज चपराणा आए और पार्टी कार्यालय पर होर्डिग लगाने लगे। लेकिन उन्हें होर्डिंग नहीं लगाने दिया गया। क्योंकि होर्डिंग पर जिलाध्यक्ष विपिन चौधरी की फोटो नहीं थी।इसी बात पर आपस में बहस होने लगी। जिलाध्यक्ष विपिन ने कहा कि पार्टी कार्यालय में होर्डिंग लग रहा है तो उसमें जिलाध्यक्ष और जनप्रतिनिधियों का फोटो होना चाहिए। यही पार्टी प्रोटोकॉल है। कहा कि ये अनुशासनहीनता और नियमों का उल्लंघन है।इसे बर्दाश्त नहीं करेंगे। इसी बात पर दोनों तरफ से तू-तू मैं मैं होने लगी। नेताओं ने आपस में ही इस घटना का वीडियो भी बनवाया और वायरल कर दिया। पूरा मामला पार्टी हाईकमान तक पहुंचा था।