प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के लाभार्थियों के लिए ‘विशेष पंजीकरण अभियान’ आज और कल

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के लाभार्थियों के लिए ‘विशेष पंजीकरण अभियान’ आज और कल

दी न्यूज़ एशिया समाचार सेवा।

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के

लाभार्थियों के लिए विशेष

पंजीकरण अभियान कल आज

नोएडा, 29 नवम्बर 2023। प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना (पीएमएमवीवाई) के अंतर्गत बृहस्पतिवार और शुक्रवार (30 नवम्बर से एक दिसम्बर तक) विशेष पंजीकरण अभियान चलाया जाएगा। अभियान के दौरान भारत सरकार की टीम भी अनुश्रवण (मॉनिटरिंग) के लिए प्रतिभाग करेगी। इस संबंध में सचिव चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण/ अधिशासी निदेशक सिफ्सा डा. पिंकी जोवल ने जिलाधिकारी और मुख्य चिकित्सा अधिकारी को पत्र भेज कर दिशा-निर्देश जारी किये हैं।  

योजना के नोडल अधिकारी डा. ललित  कुमार ने बताया- प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना (पीएमएमवीवाई) केन्द्र सरकार एवं उप्र सरकार की एक महत्वाकांक्षी योजना है, जिसके अन्तर्गत गर्भवती एवं धात्री माताओं को प्रथम सन्तान एवं द्वितीय सन्तान (लड़की) होने पर लाभ दिये जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। उन्होंने बताया-जनपद की आशा कार्यकर्ताओं को निर्देश दिये गये हैं कि वह प्रतिदिन कम से कम 2-3 फार्म अवश्य भरें, जिसका अनुश्रवण दैनिक रूप से हो, जिससे सौ प्रतिशत आशा कार्यकर्ताओं का संवेदीकरण एवं भागीदारी सुनिश्चित की जा सके। उन्होंने बताया- मुख्य चिकित्सा अधिकारी की ओर से प्रतिदिन जिलाधिकारी को ब्लॉकवार पंजीकृत लाभार्थियों एवं समस्त आशा कार्यकर्ताओं की भागीदारी की सूचना प्रेषित की जाएगी।

जिला कार्यक्रम सहायक अदिति करण ने बताया- जनपद में 10211 पंजीकरण का लक्ष्य निर्धारित किया गया है, जिसमें 8168 पंजीकरण पहले बच्चे के लिए और 2043 पंजीकरण दूसरे बच्चे के लिये किये जाने हैं। उन्होंने बताया- योजना के पोर्टल http://pmmvy.wcd.gov.in/ पर लाभार्थी सीधे पंजीकरण कर सकते हैं।

अदिति करण ने बताया-प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना में लाभार्थी को पहली बार गर्भवती होने पर दो किस्तों में पांच हजार रुपये दिये जाते हैं। प्रथम किस्त (तीन हजार रुपये) प्रसव पूर्व कम से कम एक जांच होने पर और दूसरी किस्त (दो हजार रुपये) बच्चे के जन्म का पंजीकरण होनेबच्चे के प्रथम चक्र का टीकाकरण पूरा होने पर मिलेगी। बच्चे का जन्म होने के 270 दिन तक योजना का लाभ लिया जा सकेगा। उन्होंने बताया- दूसरा बच्चा लड़की होने पर छह हजार एक मुश्त रुपये दिये जाते हैं। इसका पंजीकरण प्रथम चक्र का टीकाकरण पूरा होने पर किया जाएगा। यह राशि बालिकाओं के प्रति सकारात्मक व्यवहार को बढ़ावा देने के लिए है। योजना के तहत मिलने वाली धनराशि लाभार्थी के बैंक खाते में सीधे ट्रांसफर की जाती है।