पेल्विक एसिटाबुलर ट्रॉमा विषय पर एकदिवसीय राष्ट्रीय अस्थि कार्यशाला काआयोजन

पेल्विक एसिटाबुलर ट्रॉमा विषय पर एकदिवसीय राष्ट्रीय अस्थि  कार्यशाला काआयोजन

दी न्यूज एशिया समाचार सेवा 

पेल्विक एसिटाबुलर ट्रॉमा विषय पर एकदिवसीय राष्ट्रीय अस्थि

कार्यशाला काआयोजन

--मेरठ, मुरादाबाद, लखनऊ के अलावा दिल्ली, मुंबई, चंडीगढ़, चेन्नई, गुरुग्राम, हैदराबाद समेत पूरे भारतवर्ष से आए 125 से अधिक विख्यात हड्डी रोग विशेषकों ने लेटेस्ट तकनीक द्वारा सफल घुटना प्रत्यारोपण, कूल्हा प्रत्यारोपण, एडवांस सर्जरी आफ स्पोर्ट्स इंजरी, समेत पेल्विस सर्जरी की दर्द रहित एडवांस सफल सर्जरी तकनीक पर विस्तार से किया मंथन

प्रधानमंत्री  के "स्वस्थ भारत अभियान" को देश के अंतिम छोर तक ले जाने एवं पश्चिमी उत्तर प्रदेश समेत पूरे देश में सस्ती विश्वस्तरीय स्वास्थ्य सेवा देने के लिए वेंकटेश्वरा समूह पूरी तरह प्रतिबद्ध- डॉ सुधीर गिरी 

--शानदार विश्वस्तरीय स्वास्थ्य सेवाओं के दम पर वेंकटेश्वर समूह का विम्स मल्टी स्पेशलिटी हॉस्पिटल आज पश्चिम यूपी की स्वास्थ्य सेवाओं के "सेंटर आफ एक्सीलेंस" के रूप में हुआ स्थापित- डॉ राजीव त्यागी 

मेरठ।  रविवार को राष्ट्रीय राजमार्ग बाईपास स्थित वेंकटेश्वरा समूह के विमस  संस्थान एवं "यू पी ऑर्थोपेडिक एसोसिएशन" लखनऊ के संयुक्त तत्वाधान में "पेल्विक एसिटेबुलेर ट्रॉमा" विषय पर एकदिवसीय "राष्ट्रीय अस्थि कार्यशाला" का शानदार आयोजन किया गया, जिसमें मेरठ, दिल्ली, मुंबई समेत देश के विभिन्न प्रदेशों से आए 125 से अधिक विख्यात अस्थि रोग विशेषज्ञों ने कूल्हे यानी पेल्विस की विभिन्न चोटो/ ट्रॉमा, घुटना प्रत्यारोपण एवं स्पोर्ट्स इंजरी के उपचार एवं सर्जरी की लेटेस्ट एवं दर्द रहित तकनीक के बारे में विस्तार से समझाया।

वेंकटेश्वरा संस्थान के डॉ सीवी रमन चिकित्सा सभागार में आयोजित "पेल्विक एसिटेबुलर ट्रॉमा" विषय पर एकदिवसीय "राष्ट्रीय अस्थि कार्यशाला" का शुभारंभ समूह अध्यक्ष डॉ सुधीर गिरि, प्रतिकुलाधिपति डॉ राजीव त्यागी, ऑर्थो विभाग के विभागाअध्यक्ष एवं विख्यात ऑर्थोपेडिक सर्जन डॉ नजमुल हुदा, यू पी ऑर्थोपेडिक संगठन के सेक्रेटरी डॉ रजत कपूर, एसजीपीजीआई के डॉ कुमार केशव, केजीएमयू के डॉ धर्मेंद्र सिंह, मेरठ के ऑर्थोपेडिक सर्जन डॉक्टर तुषार आनंद, ऑर्गेनाइजिंग सेक्रेट्री डॉ शाहिद मीर, डॉ अल्ताफ हुसैन आदि ने सरस्वती मां की प्रतिमा के सम्मुख दीप प्रज्वलित करके किया।

अपने संबोधन में विख्यात ऑर्थोपेडिक सर्जन एवं ऑर्गेनाइजिंग कमेटी के अध्यक्ष डॉ नजमुल हुदा ने कहा कि आज भारत देश में कूल्हा प्रत्यारोपण, घुटना प्रत्यारोपण, एडवांस स्पोर्ट इंजरी की सर्जरी समेत अस्थि रोग में दर्द रहित लेटेस्ट तकनीक द्वारा लाखों लोगों का उपचार कर उनको नया जीवन  दिया जा रहा है  इंडिया का आर्थोपेडिक विभाग आज तकनीक और एक्यूरेसी के मामले में यूके ,यू एस एवं ऑस्ट्रेलिया की मेडिकल साइंस को भी पीछे छोड़ चुका है। अकेले वेंकटेश्वरा इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंस में ही पिछले एक वर्ष में 200 से अधिक लाचार  गरीब लोगों को घुटने एवं कुल्हा प्रत्यारोपण द्वारा नया जीवन देखकर उनके जीवन में खुशियां लोटाने का काम किया है।

एकदिवसीय "राष्ट्रीय अस्थि कार्यशाला" को एसजीपीजीआई चंडीगढ़ के डॉ केशव, एएमयू के डॉ अब्दुल कयूम, चेन्नई के डॉ एस श्रीनिवासन, हैदराबाद के डॉक्टर सी संजीव राव, डॉ शाहिद मीर, डॉअल्ताफ हुसैन, डॉक्टर सचिन टूटू, डॉ अर्निम स्वरूप, डॉ गजराज सिंह, मेरठ के अस्थि रोग विशेषज्ञ डॉ तुषार आनंद आदि ने भी संबोधित किया। विश्वविद्यालय के प्रतिकूलाधिपति डॉ  राजीव त्यागी ने इस शानदार राष्ट्रीय आयोजन के लिए डॉ नजमुल हुदा एवं पूरी ऑर्थोपेडिक टीम को बधाई देते हुए धन्यवाद ज्ञापित किया।