एक IMEI पर चल रहे 13000 से अधिक मोबाइल

एक IMEI पर चल रहे 13000 से अधिक मोबाइल

एक आइएसआइ नंबर पर चल रहे थे 13 हजार मोबाइलएक आइएसआइ नंबर पर चल रहे थे 13 हजार मोबाइल
 वीवो के खिलाफ चार्जशीट तैयार

मेरठ। चीनी मोबाइल कंपनी वीवो के साढ़े तेरह हजार मोबाइल नंबर एक ही आईएमईआई पर संचालित होने के मामले में विवेचना में पूरा मामला बदल गया है। पुलिस को काफी साक्ष्य मिले है। जिनको आधार बनाकर चार्जशीट तैयार कर ली गई है। केस डायरी को फिलहाल अभियोजन अधिकारी के पास विचार विमर्श के लिए भेज दी गई है। माना जा रहा है कि जल्द ही चार्जशीट कोर्ट में पेश कर दी जाएगी।
मेरठ। चीनी मोबाइल कंपनी वीवो के साढ़े तेरह हजार मोबाइल नंबर एक ही आईएमईआई पर संचालित होने के मामले में विवेचना में पूरा मामला बदल गया है। पुलिस को काफी साक्ष्य मिले है। जिनको आधार बनाकर चार्जशीट तैयार कर ली गई है। केस डायरी को फिलहाल अभियोजन अधिकारी के पास विचार विमर्श के लिए भेज दी गई है। माना जा रहा है कि जल्द ही चार्जशीट कोर्ट में पेश कर दी जाएगी।
इस मुकदमे में पहले नौचंदी थाने के पूर्व थाना प्रभारी आशुतोष कुमार ने एफआर लगा दी थी। एडीजी के आदेश पर मुकदमे की दोबारा से विवेचना करने के निर्देश दिए गए थे, जबकि पूर्व में विवेचक ने कंपनी के सीईओ के बयान को आधार बनाकर मुकदमे में एफआर लगा दी थी। एडीजी कार्यालय के दारोगा आशाराम की तहरीर पर पांच जून 2020 को इस मामले में वीवो कंपनी पर मुकदमा दर्ज हुआ था। मेडिकल थाने से विवेचना स्थानांतरित कर तत्कालीन इंस्पेक्टर नौचंदी आशुतोष कुमार को दी गई। उन्होंने पांच अक्टूबर को मुकदमे में फाइनल रिपोर्ट लगाकर केस डायरी कोर्ट में जमा करा दी। एफआर में तर्क दिया गया कि सॉफ्टवेयर में तकनीकी खराबी के कारण एक आईएमईआई पर तेरह हजार मोबाइल नंबर चल गए थे। कंपनी सीईओ ने अपने बयान में यह दर्ज कराया है।
इस मुकदमे में पहले नौचंदी थाने के पूर्व थाना प्रभारी आशुतोष कुमार ने एफआर लगा दी थी। एडीजी के आदेश पर मुकदमे की दोबारा से विवेचना करने के निर्देश दिए गए थे, जबकि पूर्व में विवेचक ने कंपनी के सीईओ के बयान को आधार बनाकर मुकदमे में एफआर लगा दी थी। एडीजी कार्यालय के दारोगा आशाराम की तहरीर पर पांच जून 2020 को इस मामले में वीवो कंपनी पर मुकदमा दर्ज हुआ था। मेडिकल थाने से विवेचना स्थानांतरित कर तत्कालीन इंस्पेक्टर नौचंदी आशुतोष कुमार को दी गई। उन्होंने पांच अक्टूबर को मुकदमे में फाइनल रिपोर्ट लगाकर केस डायरी कोर्ट में जमा करा दी। एफआर में तर्क दिया गया कि सॉफ्टवेयर में तकनीकी खराबी के कारण एक आईएमईआई पर तेरह हजार मोबाइल नंबर चल गए थे। कंपनी सीईओ ने अपने बयान में यह दर्ज कराया है।
विवेचक ने इसी को आधार बनाते हुए कंपनी को क्लीनचिट दे दी। सीईओ से इसका कोई साक्ष्य तक नहीं लिया गया। न ही किसी साफ्टवेयर इंजीनियर से इस संदर्भ में कोई बातचीत की है। एडीजी के आदेश पर मामले की दोबारा विवेचना शुरू की गई थी।
विवेचक ने इसी को आधार बनाते हुए कंपनी को क्लीनचिट दे दी। सीईओ से इसका कोई साक्ष्य तक नहीं लिया गया। न ही किसी साफ्टवेयर इंजीनियर से इस संदर्भ में कोई बातचीत की है। एडीजी के आदेश पर मामले की दोबारा विवेचना शुरू की गई थी।
विवेचना नौचंदी थाने से हटाकर क्राइम ब्रांच को सौंप दी गई थी। क्राइम ब्रांच ने दोबारा से विवेचना के दौरान काफी साक्ष्य जुटा लिए है। बताया गया कि तकनीकी कारण के बजाय एक ही नंबर पर 13 हजार मोबाइल का संचालन होना देश की सुरक्षा को भी खतरा है। इन मोबाइलों से लोगों का डाटा भी लिया जा सकता है। ऐसे में मुकदमे की चार्जशीट तैयार कर ली गई है। कोर्ट में अभियोजन अधिकारी को केस डायरी के लिए भेजा गया है। उनकी अनुमति मिलने के बाद ही आरोप पत्र कोर्ट में दाखिल कर दिया जाएगा।
विवेचना नौचंदी थाने से हटाकर क्राइम ब्रांच को सौंप दी गई थी। क्राइम ब्रांच ने दोबारा से विवेचना के दौरान काफी साक्ष्य जुटा लिए है। बताया गया कि तकनीकी कारण के बजाय एक ही नंबर पर 13 हजार मोबाइल का संचालन होना देश की सुरक्षा को भी खतरा है। इन मोबाइलों से लोगों का डाटा भी लिया जा सकता है। ऐसे में मुकदमे की चार्जशीट तैयार कर ली गई है। कोर्ट में अभियोजन अधिकारी को केस डायरी के लिए भेजा गया है। उनकी अनुमति मिलने के बाद ही आरोप पत्र कोर्ट में दाखिल कर दिया जाएगा।
वीवो कंपनी के मामले में पुलिस को काफी साक्ष्य मिले है, जिनके आधार पर चार्जशीट की तैयारी कर ली गई है। अभियोजन अधिकारी के पास रायशुमारी को केस डायरी भेजी जा रही है। अभियोजन अधिकारी की अनुमति मिलने के बाद केस डायरी कोर्ट में पेश की जाएगी।
वीवो कंपनी के मामले में पुलिस को काफी साक्ष्य मिले है, जिनके आधार पर चार्जशीट की तैयारी कर ली गई है। अभियोजन अधिकारी के पास रायशुमारी को केस डायरी भेजी जा रही है। अभियोजन अधिकारी की अनुमति मिलने के बाद केस डायरी कोर्ट में पेश की जाएगी।