टैक्स देने के बाद भी छावनी परिषद कर रही सौतेला व्यवहार 

टैक्स देने के बाद भी छावनी परिषद कर रही सौतेला व्यवहार 

दी न्यूज एशिया समाचार सेवा 

टैक्स देने के बाद भी छावनी परिषद कर रही सौतेला व्यवहार 

 कैंट के रिहायशी क्षेत्र को नगर निगम में शामिल करने को लेकर बैठक का आयोजन 

 मेरठ। दशकों के प्रयास के बाद भारत सरकार द्वारा छावनी परिषद, मेरठ कैंट का रिहायशी क्षेत्र नगर निगम क्षेत्र में सम्मिलित किये जाने के निर्देश दिये गये हैं। इस संबंध में मेरठ कैंट विधायक   अमित अग्रवाल के द्वार शनिवार को  एक विचार गोष्ठी का आयोजन ग्रैंड औरा, बैंकेट हाॅल, वैस्ट एंड रोड, सदर, मेरठ कैंट में की गयी । जिसमें छावनी क्षेत्र निवासी बंगला एसोसिएशन के पदाधिकारी, पूर्व उपाध्यक्षगण, पूर्व पार्षदगण व्यापार संघो,  बाजारों के अध्यक्ष/महामंत्री मन्दिरों के प्रतिनिधि स्कूल काॅलिजों के संचालक उपस्थित रहे। 

बैठक में बंगला एसोसिऐशन के अध्यक्ष अशोक गर्ग  ने बताया कि बंगलों में रहने वाली जनता सैंकड़ों वर्षो से रह रही है तथा कैंट के सभी टैक्सों का भुगतान भी कर रही है फिर छावनी परिषद द्वारा उनके साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। अपने विचार रखते हुए पूर्व उपाध्यक्ष बीना वाधवा द्वारा बताया गया कि जो प्रक्रिया बोर्ड द्वारा अपनायी जा रही है वो बिल्कुल अव्यवहारिक है जहाँ-जहाँ सिविल आबादी रहती है चाहे वे नोटिफाइड सिविल एरिया के निवासी हो वो सभी क्षेत्र नगर निगम में जाने चाहिए। दिनेश गोयल पूर्व उपाध्यक्ष द्वारा रैपिड रेल के दोनों ओर टी.ओ.डी. लागू कराने हेतु प्रयास किए जाने का सुझाव दिया ।जिसपर कैंट विधायक अमित अग्रवाल द्वारा अवगत कराया गया कि इस संबंध में 6, मार्च, 2024 को मेरठ विकास प्राधिकरण द्वारा इसी विषय पर मार्श बैंकेंट हाॅल बाईपास कार्यशाला आयोजित की गई है। सभी वक्ताओं  रवि कुमार मित्तल, अशोक राजपाल, अमन गुप्ता, एडवोकेट जयगोपाल आनंद, कमेन्द्र सिंह, राजीव शर्मा, भारत ज्ञान भूषण आदि द्वारा अपने-अपने सुझाव रखते हुए सभी ने छावनी क्षेत्र के नगर निगम में जाने वाला क्षेत्र सड़कों के आधार पर विभाजित किया जाय।

सांसद  राजेन्द्र अग्रवाल द्वारा उपस्थित जनसमूह को यह आश्वासन दिया कि सरकार एवं भाजपा संगठन इस मामलें में बहुत गम्भीर है तथा जल्द ही जहाँ-जहाँ सिविल आबादी रहती है व हिस्सा नगर निगम सम्मिलित कराने का पूरा प्रयास जायेगा तथा कैंट विधायक अमित अग्रवाल द्वारा उनके आव्हान पर उपस्थित गणमान्य व्यक्तियों का आभार व्यक्त किया तथा यह भी आश्वसान दिया कि जब तक छावनी क्षेत्र के सिविल एरियों का नगर निगम में स्थानांतरण नहीं हो जाता तब तक यथा-स्थिति रहे। इसका प्रयास करेंगे और किसी भी नागरिक का उत्पीड़न नहीं होने दिया जायेगा। यह बात भी प्रकाश में आई कि चूँकि सैन्य क्षेत्र हेतु पर्याप्त भूमि उपलब्ध है इसलिए सभी रिहायशी क्षेत्र पूर्ण रूप से नगर निगम में स्थानांतरित कराये जाने का प्रयास किया जायेगा। इस गोष्ठी की अध्यक्षता छावनी परिषद के नामित सदस्य डा. सतीश शर्मा द्वारा की गयी तथा संचालन अंकित सिंहल द्वारा किया गया इस अवसर पर श्री अजय गुप्ता, सुधीर रस्तोगी, अनिल जैन, गौरव गोयल, विशाल कन्नौजिया, आलोक रस्तोगी, अनिल कंसल, शरद चन्द्रा, मुकेश अग्रवाल, राजेश अग्रवाल,  डौली गुप्ता, सीमा अग्रवाल, राजीव शर्मा, नीरज राठौर आदि सैंकड़ों की सुख्या में छावनी क्षेत्र के नागरिक मुख्य रूप से उपस्थित रहे।