रेकिट ने किया डेटॉल डायरिया नेट जीरो का विस्तार

रेकिट ने किया डेटॉल डायरिया नेट जीरो का विस्तार

दी न्यूज़ एशिया समाचार सेवा ।

रेकिट ने किया डेटॉल डायरिया नेट जीरो का विस्तार
बुलंदशहर। दुनिया की प्रमुख उपभोक्ता स्वास्थ्य और स्वच्छता कंपनी रेकिट ने 100,000 लोगों की जान बचाने के लक्ष्य के साथ डेटॉल डायरिया नेट जीरो का दूसरा चरण लॉन्च किया है। अपनी तरह का पहला यह कार्यक्रम उत्तर प्रदेश में 5 साल से कम उम्र के बच्चों में डायरिया से रोकी जा सकने वाली मौत को शून्य करने की दिशा में काम कर रहा है। 
एग्‍जीक्‍यूटिव वाइस प्रेसिडेंट रेकिट साउथ एशिया गौरव जैन ने कहा, डब्‍ल्‍यूएचओ की 7 सूत्रीय योजना के आधार पर कार्यक्रम राज्य के 25 जिलों में डायरिया की रोकथाम, प्रचार और उपचार पर सामाजिक जागरूकता और शिक्षा बढ़ाने पर केंद्रित है। कहा, उत्‍तर प्रदेश का स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं में वृद्धि कर अपनी अर्थव्यवस्था को मजबूत करने की कठोर प्रतिबद्धता हमें हर दिन राज्‍य में और अधिक हासिल करने के लिए प्रेरित करती है। रेकिट ने पिछले आठ वर्षों में छात्रों, शिक्षकों, अभिभावकों और समुदायों के साथ उनके समग्र स्‍वास्‍थ्‍य और कल्याण में सुधार के लिए काम किया है, जिससे करीब एक करोड़ बच्‍चों के जीवन पर प्रभाव पड़ा है। 13 जिलों में डायरिया नेट जीरो कार्यक्रम की सफलता ने हमें अपने संसाधनों का विस्तार करने के लिए प्रोत्साहित किया है और हम इस कार्यक्रम को राज्य के 25 जिलों में ले जाने के लिए रोमांच महसूस कर रहे हैं। इसके माध्यम से पांच साल से कम उम्र के बच्चों में डायरिया से शून्‍य मृत्यु को सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी। उत्तर प्रदेश सरकार के समर्थन से हम गति पकड़ेंगे और बच्‍चों के लिए एक स्वस्थ और उज्‍जवल भविष्‍य का निर्माण करने के लिए पूरी मेहनत और लगन से काम करेंगे।” 
एक्सटर्नल अफेयर्स और पार्टनरशिप एओए रेकिट के डायरेक्टर रवि भटनागर ने कहा, रेकिट उत्‍तर प्रदेश राज्‍य का एक दीर्घकालिक भागीदार रहा है, जो स्वच्छता स्वास्थ्य और सफाई का समर्थन करता है। सरकार के गहन डायरिया नियंत्रण पखवाड़ा कार्यक्रम और दस्‍तक अभियान के अनुरूप हम कला, संस्कृति और विभिन्न शैक्षणिक गतिविधियों के माध्यम से सबसे दूर-दराज के समुदायों के साथ लगातार जुड़ रहे हैं। डायरिया नेट जीरो के विस्तार के साथ हम समुदायों को ज्ञान और संसाधनों के साथ सशक्त बनाएंगे, ताकि वे रोजमर्रा की चुनौतियों से प्रभावी ढंग से निपट सकें, जो कमजोर बच्‍चों के लिए दीर्घकालिक स्वास्थ्य चिंता बन सकती है। हम डायरिया को पूरी तरह से खत्म करने की दिशा में प्रभावी समाधान खोजने और उन्हें लागू करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। 
रोटा वायरस जैसे वायरस के लिए टीकाकरण के महत्व के बारे में बताने और ओआरएस एवं जिंक का उपयोग करने के साथ अच्छी स्वच्छ आदतों जैसे हाथ धोना और साफ शौचालय के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए उत्तर प्रदेश में 5 साल से कम उम्र के बच्चों को अब तक 6,000 जीवन रक्षक डेटॉल डायरिया नेट जीरो किट वितरित की जा चुकी हैं, जिसमें सैनिटाइजर, जिंक, ओआरएस और शिक्षण सामग्री शामिल है। दूरस्थ और वंचित क्षेत्रों में डायरिया प्रबंधन ज्ञान तक पहुंच बढ़ाने के लिए स्‍थानीय भाषा में सांस्कृतिक रूप से अनुकूलनीय शैक्षिक संगीत ट्रैक और नुक्‍कड़ नाटक भी विकसित और प्रदर्शित किए जा रहे हैं।