चौपला संग्रहालय की पेंटिंग करेगी पुरानी यादों को करेगी ताजा

चौपला संग्रहालय की पेंटिंग करेगी पुरानी यादों को करेगी ताजा

दी न्यूज एशिया समाचार सेवा

चौपला संग्रहालय की पेंटिंग करेगी पुरानी यादों को करेगी ताजा

 एमडीए में बनाया गया कला संग्रहालय में आर्ट गैलरी

लोगों को अपनी प्रतिभा दिखाने का मिलेगा मौका

मेरठ। मेरठ विकास प्राधिकरण ने बनाया मेरठ का पहला और सबसे बड़ा कला संग्रहालय नाम रखा। चौपला संग्रहालय में लगी पेंटिंग से शहर व देश की पुरानी यादों को ताजा करने का प्रयास मेरठ की चर्चित चीजों को संग्रहालय में स्थान दिया गया।

मेरठ विकास प्राधिकरण के द्वारा सामूहिक आर्ट गैलरी को चौपला के नाम से निर्माण किया गया। मेरठ प्राधिकरण के सामने काफी समय से कचरा पड़ा हुआ था। प्रदेश सरकार और केंद्र सरकार की नीति के चलते कार्यालय परिसरों को जनता के लिए शुभम आकर्षक और शुभम बनाने के चलते मेरठ विकास प्राधिकरण से जनता का वास्ता पड़े।

प्राधिकरण की ओर जनता आकर्षित हो। इसी के चलते 3 महीने में आर्ट गैलरी का विकास किया गया। आर्ट गैलरी की परिकल्पना ऐसे मंच के रूप में की गई है। जहां प्रतिभावान युवाओं और लोगों को अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका दिया जाएगा। आर्ट गैलरी में सभी प्रतिभाग लोगों को अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिलेगा

लोगों ने करीब 300 से 350 पेंटिंग प्राधिकरण को की भेंट

वहीं वीसी का कहना है कि मेरठ की विरासत को सहेजने में यह चोपला मील का पत्थर साबित होगा। मेरठ विकास प्राधिकरण के वीसी अभिषेक पांडे ने बताया कि प्राधिकरण के बेसमेंट में खाली जगह पड़ी थी। जिसमें कबाड़ भरा पड़ा था। उस कबाड़ को 25 लाख में बेचा गया।

आर्ट गैलरी को तैयार करने में करीब 18 लाख रुपए का खर्चा आया है। पूरी गैलरी में इस बात का ध्यान रखा गया है कि लोग अपनी कलाकृतियों को यहां पर लगा सके। इसके लिए कोई शुल्क नहीं लिया गया है। यह प्रदर्शनी विकास प्राधिकरण में आने वाले मेरठ व आसपास के जिलों के लिए संजीवनी बूटी साबित होगी।

आर्ट गली में 1947 की यादों को भी ताजा किया गया है। वहीं मेरठ के इतिहास को भी गैलरी में महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है। वहीं मेरठ की मशहूर केचियां, क्रिकेट के बल्ले, टीवी पर लगने वाला एंटीना आदि ऐसे एंटीक सामान को रखा गया है। ताकि गैलरी में पहुंचने वाले लोग पुरानी यादों को भी ताजा कर सकें।