सीसीएस के छात्र नेता विजय धामा हत्या के आरोप से मुक्त

सीसीएस के छात्र नेता विजय धामा हत्या के आरोप से  मुक्त

दी न्यूज़ एशिया समाचार सेवा।

सीसीएस के छात्र नेता विजय धामा हत्या के आरोप से मुक्त

 विवि में मनाया गया जश्न , जिला पंचायत उपचुनाव में हत्या व बूथ कैप्चरिंग का लगा था आरोप
मेरठ। सीसीएस के  छात्र नेता विजय धामा के लिए सोमवार को दिन खुशियां लेकर आया। कोर्ट ने सोमवार को आदेश जारी कर उनके ऊपर लगे सारे दावों को खारिज कर दिया। दोषमुक्त की खबर सुनते ही विवि में जश्न मनाया गया। छात्रों ने इस दौरान एक दुसरे को विवि के गेट पर मिठाईयों खिलाई।
 छात्र नेता विजय धामा पर 2019 जिला पंचायत उपचुनाव में हत्या और बूथ कैप्चरिंग का आरोप था। परीक्षितगढ़ में छह जुलाई 2019 को जिला पंचायत उपचुनाव हुए थे। इसी दौरान बूथ कैप्चरिंग का प्रयास किया गया और दो पक्षों में गोलीबारी हुई थी। आरोप था कि जिला पंचायत प्रत्याशी विजय धामा ने बली गांव के प्रधान कालूराम के बेटे अनित की गोली मारकर हत्या कर दी। जिसमे विजय धामा सहित कई लोगों को नामजद किया गया था।
चुनाव में विजय धामा उस चुनाव मे जिला पंचायत सदस्य निर्वाचित हुए थे। पुलिस ने इस मामले में विजय धामा पर 50 हजार का ईनाम घोषित किया था। इसी प्रकरण में 25 जुलाई को मृतक के पिता कालूराम गुर्जर को साथ लेकर भाजपा विधायक दिनेश खटीक, सत्यप्रकाश अग्रवाल,सोमेंद्र तोमर और एमएलसी वीरेंद्र दिसाला लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिले थे।
सोमवार को न्यायालय ने आदेश जारी कर विजय धामा के ऊपर लगे सारे आरोपों को खारिज करते हुए सभी आरोपों से दोषमुक्त करने का फैसला सुनाया। जिससे विश्वविद्यालय के छात्रों में खुशी का माहौल है और उन्होंने कहा है कि आज सत्यमेव जयते का श्लोक चरितार्थ हुआ है।