कैंटर ने हेड कांस्टेबल को मारी टक्कर, अस्पताल में मौत

कैंटर ने हेड कांस्टेबल को मारी टक्कर, अस्पताल में मौत

दी न्यूज़ एशिया समाचार सेवा।

कैंटर ने हेड कांस्टेबल को मारी टक्कर, अस्पताल में मौत

मेरठ। सरूरपुर में मेरठ-करनाल हाईवे पर टूटी पुलिया के पास बुधवार को कैंटर ने हेड कांस्टेबल को टक्कर मार दी। जिसमें वह गंभीर घायल हो गए। वहीं, जीप में बैठे सब इंस्पेक्टर बाल-बाल बच गए। पुलिस ने हेड कांस्टेबल को सीएचसी में भर्ती करवाया। जहां से उन्हे मेरठ रेफर कर दिया। घायल को लेकर निजी अस्पताल में पहुंचे। वहां चिकित्सकों ने उन्हे मृत घोषित कर दिया।उधर, पुलिस ने आरोपी चालक को गिरफ्तार करके मामले की जांच शुरू कर दी है। 

थाना पुलिस बुधवार सुबह गश्त पर थी और वह मेरठ-करनाल हाईवे पर स्थित टूटी पुलिया पर मौजूद थे। इस दौरान जीप में सब इंस्पेक्टर जावेद हुसैन बैठे थे। वहीं, जीप के पास हाथरस के गांव नगला सेवा, डाकखाना घाघउ, थाना शहपऊ संजीत कुमार पुत्र जोगिंदर सिंह हेड कांस्टेबल खड़े थे।इसी दौरान शामली की ओर से हरियाणा का फरीदाबाद निवासी मनोज पुत्र कमल सिंह कैंटर लेकर मेरठ जा रहा था। सलावा राइट रजवाहा के पास मनोज को नींद की झपकी लग गई। जिससे उसका स्टेयरिंग से नियंत्रण हट गया और कैंटर रजवाहा की रेलिंग की दीवार तोड़कर जीप में जा भीड़ा। हादसे में हेड कांस्टेबल संजीत कुमार गंभीर घायल हो गए और सब इंस्पेक्टर जावेद हुसैन बाल-बाल बचे।

सूचना पर पहुंची पुलिस ने आनन-फानन में एंबुलेंस से हेड कांस्टेबल को सीएचसी पहुंचाया। जहां से उन्हे रेफर कर दिया। जब वह कंकरखेड़ा थाना क्षेत्र के निजी अस्पताल में पहुंचे। वहां, चिकित्सकों ने उन्हे मृत घोषित कर दिया। फिलहाल, पुलिस ने आरोपित चालक को हिरासत में लेकर मुकदमा लिखने की कार्रवाई शुरू कर दी है।

इंस्पेक्टर समर बहादुर सिंह ने बताया कि हेड कांस्टेबल संजीत कुमार की थाने में तैनाती 17 दिन पहले हुई थी। इनका गाजियाबाद से सरूरपुर थाने में स्थानांतरण हुआ था। आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।

इंस्पेक्टर ने बताया कि जीप सड़क किनारे खड़ी थी। जांच में सामने आया है कि हेड कांस्टेबल संजीत कुमार जीप में बैठे थे। कैंटर चालक को नींद की झपकी आयी और जब उसने रजवाहा की रैलिंग की दीवार तोड़ी। इस पर संजीत ने भाप लिया। तभी वह जीप से उतरे और भागने का प्रयास किया। लेकिन, वह उसकी चपेट में आ गए।