बैंककर्मी ने लगाई फांसी

बैंककर्मी ने लगाई फांसी

दी न्यूज़ एशिया समाचार सेवा।

बैंककर्मी ने लगाई फांसी

सुसाइड नोट में तनाव को बताया कारण


मेरठ।
मेरठ में बैंककर्मी ने दो पेज का सुसाइड नोट लिखने के बाद आत्महत्या कर ली। सुसाइड नोट में बैंककर्मी ने अपनी मौत का जिम्मेदार तनाव होना बताया और छोटे भाई को माता-पिता के ख्याल रखने की कही, शुक्रवार सुबह बैंककर्मी के पिता कमरे में पहुंचे तों उन्हें घटना का पता चला।
शोर सुनकर आस-पड़ोस के लोग इकट्ठा हो गए, उन्होंने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने शव मर्चरी भेज दिया और सुसाइड नोट अपने साथ लेकर चली गई। मेडिकल थाना क्षेत्र के जागृति विहार स्थित सेक्टर-2 में इंटर कॉलेज से रिटायर्ड शिक्षक सत्य प्रकाश वर्मा परिजनों के साथ रहते हैं। उनका बड़ा बेटा नवनीत वर्मा (35) जीआईसी कॉलेज स्थित यूनियन बैंक में लिपिक है, जबकि दूसरा बेटा सौरभ वर्मा हमीरपुर के एक कॉलेज में प्रोफेसर है।
एक साल पहले सौरव की शादी हो गई थी। वे अपने बेटे व पत्नी के साथ हमीरपुर में रहता है। जागृति विहार में सत्य प्रकाश, नवनीत और उनकी पत्नी रहती है। परिवार के अनुसार नवनीत ने शादी करने से मना कर दिया था। गुरुवार रात प्रतिदन की तरह खाना खाने के बाद नवनीत व उनके माता-पिता अपने कमरे में सोने चले गए। देर रात दो पेज का सुसाइड नोट लिखकर नवनीत ने फांसी लगा ली। उन्होंने तनाव से मौत होने की वजह लिखी।
सत्य प्रकाश सुबह के समय बेटे नवनीत के कमरे में गए तो पंखे पर लटका शव देख उनके होश उड़ गए। कुछ ही देर में पुलिसकर्मी भी पहुंच गए और शव को मर्चरी भेज दिया। एसपी सिटी पीयूष सिंह ने बताया कि सुसाइड नोट पढ़ने के बाद मौत की वजह तनाव और परिवार में कम्युनिकेशन गैप निकलकर आ रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।