वाल्मीकि आश्रम तोडने गयी निगम की टीम को देख वाल्मीकि समाज के लोगों ने किया जमकर हंगामा

वाल्मीकि आश्रम तोडने गयी निगम की टीम को देख  वाल्मीकि समाज के लोगों ने किया जमकर हंगामा

दी न्यूज़ एशिया समाचार सेवा।

वाल्मीकि आश्रम तोडने गयी निगम की टीम को देख

वाल्मीकि समाज के लोगों ने किया जमकर हंगामा

 विधायक के लखनऊ से लौटने पर होगी कार्रवाई
 मेरठ। गुरुवार को ब्रहम पुरी क्षेत्र में अवैध बने वाल्मीकि समाज के आश्रम को तोडने के लिए पहुंची टीम को भारी विरोध का सामना करना पडा। वाल्मीकि समाज के लोगों ने जमकर हंगामा किया। हंगामा करने वालों ने डिप्टी मेयर को भी मौके पर बुला लिया। काफी देर बाद अधिकारियों की बात दक्षिण विधायक सोमेंद्र तोमर से कराने के बाद उनके लखनऊ से वापस लौटने तक ध्वस्तीकरण की कार्रवाई विराम लग गया।
 सरस्वती लोग स्थित वाल्मीकि समाज की कल्लर भूमि पड़ी थी। जहां पर वर्षों पहले वाल्मीकि समाज के लोगों द्वारा अंतिम संस्कार किया जाता था। कई साल पहले बाबा रविनाथ ने यहां पर वाल्मीकि आश्रम और मंदिर का निर्माण कराया था। बाबा के देह त्यागने के बाद आश्रम में ही उनकी समाधि बनाई गई। आश्रम की देखभाल बाबा की पत्नी शारदा संभालती है।
 जिसे निगम अवैध बता रहा है। गुरुवार को को नगर निवगम के अधिकारी प्रवर्तन दल सहित जेसीबी लावा लश्कर के साथ आश्रम को ध्वस्त करने के लिए पहुंची। निगम की टीम ने आश्रम को अवैध बताते हुए जमीन खाली कराने के लिये निर्देश दिये। इसकी जानकारी जैसे ही वाल्मीकि समाज के लोगों को लगी तो वहां पर काफी संख्या में वाल्मीकि समाज के लोग पहुंचकर हंगामा करने लगे। उनका कहना था निगम ेके अधिकारी उक्त जमीन को जबरन निगम की जमीन बनाने में तुले हुए है। वाल्मीकि समाज के लोगों ने डिप्टी मेयर रंजन शर्मा को मौके पर बुला लिया। इस दौरान काफी देर तक हंगामा चलता रहा। मामला बढता देख वाल्मीकि समाज के  लोगों ने दक्षिण विधायक सोमेन्द्र तोमर को फोन की स्थिति की जानकारी दी।  सामेन्द्र तोमर ने निगम के अधिकारियों से फोन पर बात कर उनके लखनऊ से मेरठ तक वापस लौटने तक  कार्रवाई न करने के निर्देश दिये।