बग्गी व ढोड़ नगोड़ों के साथ नामाकंन कराने पहुंचा प्रत्याशी 

बग्गी व ढोड़ नगोड़ों के साथ नामाकंन कराने पहुंचा प्रत्याशी 

दी न्यूज़ एशिया समाचार सेवा।

बग्गी व ढोड़ नगोड़ों के साथ नामाकंन कराने पहुंचा प्रत्याशी 

 मेरठ। देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश में 2024 लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण के मतदान के लिए गुरूवार को  नामांकन का आखिरी दिन प्रत्याशी अलग-अलग तरीके से नामांकन करने पहुंचे  जोकि अपने आप में चर्चाओं का विषय बने हुए हैं । ऐसे ही एक निर्दलीय प्रत्याशी बंकायदा ढोल नगाड़े और बग्गी पर सवार होकर मेरठ कलेक्ट्रेट पहुंचा । बग्गी में पहुंचा प्रत्याशी का कहना नामाकंन कराने वाले लग्जरी वाहनेां में आ रहे है। उन्हाेंने नामाकंन कराने के लिए अनोखा तरीका निकाला। 

  पल्लवपुरम निवासी प्रत्याशी राकेश उप्पल बाबा ढोल नगाड़ों के साथ और बग्गी पर सवार होकर चुनावी नामांकन करने के लिए कमिश्नरी पार्क पहुंचे। बग्गी के आगे ढोल बज रहा था।  इस दौरान निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनावी नामांकन करने पहुंचे राकेश उप्पल बाबा अपनी चुनावी जीत सुनिश्चित बताया । उन्होंने कहा कि वो लोगों के साथ जुड़े हुए हैं और लोगों के लिए ही काम करेंगे ।निर्दलीय प्रत्याशी का ये अजब गज़ब नामांकन करने पहुंचने का ये नायाब तरीका अपने आप में चर्चाओं में बना रहा । उप्पल बाबा का कहना है कि में किसी पार्टी का नहीं हूं  एक आम आदमी होते हुए  लोगों की सेवा करना चाहता हू। 

राजेश उप्पल ने  कहा कि आज चुनाव से पहले देखा भी होगा कि किस तरह आम आदमी अपने सांसद के दफ्तर ओर घरों के चक्कर काटता रहा लेकिन किसी का कोई काम नहीं हुआ क्योंकि उन लोगो को अपने कामों से ही फुर्सत नही थी। आज में ढोल नगाड़ों के साथ इसलिए आया हू ताकि उन लोगों के कानों तक ये बात पहुंच सके कि उनका मुकाबला करने के लिये रण में उप्पल बाबा आ चुका है।

उप्पल बाबा का परिचय

उप्पल बाबा एक गर्ल्स कॉलेज में कार्यरत है और परिवार में केवल उसका एक बेटा है उप्पल बाबा की पत्नी का काफी समय पहले स्वर्गवास हो गया है अब उप्पल बाबा अपने परिवार का प्राइवेट नोकरी कर गुजारा कर रहा है। उन्होंने कहा कि मेरे पास खर्च करने को कुछ नही है लेकिन उसके बाद भी में जनता के बीच जाकर वोट मांगने का काम करूंगा में शिक्षा,ओर विकास के लिए काम करूंगा।