आजम खां पर आमने-सामने सपा और सरकार

आजम खां पर आमने-सामने सपा और सरकार

उत्तर प्रदेश विधानमंडल का तीसरा दिन

दी न्यूज़ एशिया समाचार सेवा।

आज़म खां पर आमने-सामने सपा और सरकार
 दोनों सदनों में जमकर हुआ हंगामा

लखनऊ।
उत्तर प्रदेश विधानमंडल के मानसून सत्र के तीसरे दिन बुधवार को समाजवादी पार्टी के सदस्यों ने दोनों सदनों विधान सभा और विधान परिषद में आजम खां के मुद्दे को लेकर जमकर हंगामा किया। प्रश्नकाल शुरू होते ही समाजवादी पार्टी के सदस्यों ने आजम पर फर्जी मुकदमे लगाने और उनके परिवार को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया और वेल में आ गए। इस कारण सदन को स्थगित भी करना पड़ा।
विधान सभा में प्रश्नकाल के पहले सपा नेता माता प्रसाद पांडेय ने आजम खां का मुद्दा उठाया। कहा कि उनका उत्पीड़न हो रहा है। इसके बाद नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा आजम खां का उत्पीड़न कर रही है। अखिलेश ने कहा कि उनको और प्रताड़ित न करे। उन्हें काफी सजा मिल चुकी है। उन पर बदले की भावना से फर्जी मुकदमे दर्ज हो रहे हैं।
विधान सभा में मंत्री सुरेश खन्ना ने आरोपों के जवाब में कहा कि आजम खां के खिलाफ कोई भी मुकदमा फर्जी नहीं है। बदले की भावना से काम करने का आरोप गलत है। उन्होंने कहा कि कानून से ऊपर कोई नहीं है। हम इन आरोपों का खंडन करते हैं। जिसने गवाही दी है वह उसी जाति का है और जिसने मुकदमा लिखाया वह उसी जाति का है। गवाह को गवाही देने जिस दिन जाना था, तो सुबह लोगों ने पहुंच कर धमकाया गया, इस मामले में कोतवाली में मुकदमा लिखा गया है। विवेचना चल रही है।
उधर विधान परिषद में भी प्रश्नकाल शुरू होते ही समाजवादी पार्टी के सदस्यों ने आजम खां पर फर्जी मुकदमे लगाने और उनके परिवार को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया। सपा सदस्य वेल में आ गए। सभापति ने विधान परिषद पहले 11:30 बजे तक उसके बाद 12:00 बजे तक के लिए स्थगित कर दी। इससे पहले समाजवादी पार्टी के नरेश उत्तम पटेल ने कहा कि आजम खां और उनके पूरे परिवार को जिस तरह से फर्जी मुकदमे लगाए जा रहे हैं और समाजवादी पार्टी के विधायकों को सदन में नहीं आने दिया गया। यह लोकतंत्र के लिए ठीक नहीं है।