बोल बम बोल बम के नारों से गुंजा औघडनाथ मंदिर

बोल बम बोल बम के नारों से गुंजा औघडनाथ मंदिर

दी न्यूज़ एशिया समाचार सेवा ।

बोल बम बोल बम के नारों से गुंजा औघडनाथ मंदिर
औघड़नाथ मंदिर में अब तक एक लाख से अधिक  शिवभक्तों ने किया जलाभिषेक
औघड़नाथ मंदिर में लगी शिवभक्तों की भारी भीड़
 मेरठ। महाशिवरात्रि पर औघड़नाथ मंदिर में शिवरात्रि के पावन पर्व पर सूर्योदय के साथ ही जलाभिषेक आरंभ हो गया। बच्चे, बुजुर्ग और महिलाओं ने भी कावड़ियों के साथ जलाभिषेक किया। हजारों कावड़ियों ने त्रयोदशी का जल बाबा औघड़नाथ मंदिर में चढ़ाया और अपने क्षेत्र के शिवालयों में चतुर्दशी का जलाभिषेक किया।
मंदिर में कांवड़ियों की संख्या अधिक होने के कारण नंदी द्वार और गरुड़ द्वार दोनों पर ही कतारें रहीं। सुरक्षा की दृष्टि से पॉलिसी, आरएएफ और कमांडो भी सुरक्षा में रहे। मंदिर मार्ग पर दोनों तरफ अस्थाई दुकानें लगाई गईं। सेवा.शिविरों निर्बाध सेवा की गई। सुबह से ही मौसम अनुकूल रहा। सुबह 8 बजे हल्की बूंदाबांदी भी हुई। मंदिर में सुबह 9.30 तक लगभग 23 हजार शिव भक्तों ने और सात हजार कांवड़ियों ने जलाभिषेक किया। शाम छ बजे तक एक लाख के आसपास शिवभक्त जलाभिषेक कर कर चुके थे।
कोरोना के दो साल बाद इस कांवडियों का जनसैलाब काली पल्टन मंदिर पर देखने को मिला। जलाभिषेक के लिए कई किलोमीटर तक लंबी लाइनें लग गयी। जलाभिषेक के दौरान शिव भक्तों को किसी प्रकार से शिव भक्तों को परेशानी का सामना न करने पडे इस लिए बेरिकेटिंग कर कई लाइन बनाई गयी।
   होती रही निगरानी
 काली पलटन मंदिर परिसर की छत पर कमांडो को तैनात किया गया। सादी वर्दी में शिवभक्त के रूप में पुरुष व महिला पुलिसकर्मी तैनात रहे। मंदिर की छत पर बनाए गये कंट्रोल रूप से अधिकारियों द्वारा पूरे क्षेत्र की निगरानी होती रही। असामाजिक तत्वों पर नजर रखने के लिये  ड्रोन कैमरों से निगरानी होती रही।
 6.48 मिनट शाम से हुआ कांवड़ियों का जलाभिषेक
 काली पलटन मंदिर में शाम 6 बजकर 48 मिनट पर जलाभिषेक आरंभ हो गया ।हरिद्वार से गंगा जल लेकर आए कांवड़ियों ने जलाभिषेक किया। पूरी रात जलाभिषेक होता रहा।  जलाभिषेक में किसी प्रकार की परेशानी न हो इसके लिये शिवभक्त के रूप में पुलिस के जवानों को लगाया गया।
 दोपहर बाद सड़कों पर दिखाई दी चहल पहल
कावड़ के कारण मार्ग पर की गयी मार्केटिंग को दोपहर बाद निगम की ओर से खोलना आरंभ हो गया। जिससे वाहनों की चहल पहल दिखाई देनी आरंभ हो गयी। हाईवे पर हल्के वाहनों का आवागमन आरंभ हो गया। इससे लोगों ने राहत की सांस ली।